अब स्मार्टफोन चोरी करने के बाद पछताएगा चोर! बस इस सेटिंग को करें चालू

News Desk
3 Min Read

स्मार्टफोन चोरी करने के बाद पछताएगा चोर

स्मार्टफोन: स्मार्टफोन इतने महंगे होते जा रहे हैं कि आजकल चोरों की भी नजर फोन पर टिकी है। मौका मिलते ही तुरंत चोरी करने के लिए तैयार हो जाते हैं। और आज के स्मार्ट युग में फोन नंबर डिटेल के साथ पासवर्ड और बैंकिंग डिटेल जैसी कई चीजें मोबाइल में ही स्टोर होती हैं। ऐसे में फोन का चोरी होना बहुत जोखिम भरा हो जाता है। दूसरी ओर फोन चोरी के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। चोरी हुआ फोन रिकवर करना भी काफी मुश्किल हो जाता है। फोन चोरी होने से डेटा और प्राइवेसी को भी खतरा हो सकता है। तो ऐसे में Meizu तकनीक का एंटी-थेफ्ट पेटेंट प्राधिकरण इस समस्या का समाधान हो सकता है। इससे लोगों के फोन चोरी होने से बचेंगे और निजी जानकारियां भी सुरक्षित रहेंगी। आइए जानते हैं इस तकनीक के बारे में…

यह तकनीक फोन को चोरी होने से बचाएगी

Meizu Technology ने एंटी-थेफ्ट तकनीक का निर्माण और पेटेंट कराया है। इस तकनीक से चोरी हुए फोन और डेटा चोरी पर लगाम लगेगी। पेटेंट विनिर्देश बताते हैं कि एंटी-थेफ्ट तकनीक कैसे काम करती है। फोन के मालिक को इस तकनीक को एक्टिव करना होगा। इसके बाद स्क्रीन काली हो जाएगी और सिम ब्लॉक हो जाएगा। इससे दूसरा यूजर फोन का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा।

फोन ट्रेस हो जाएगा

इस तकनीक का इस्तेमाल दूसरे तरीकों से भी किया जा सकता है। फोन का मालिक इंटरनेट का इस्तेमाल कर फोन की लोकेशन भी ट्रेस कर सकता है। यह तकनीक तभी काम करेगी जब स्क्रीन काली न हो और सिम कार्ड लॉक न हो।

Meizu टेक्नोलॉजी की इस तकनीक से लोगों की टेंशन खत्म हो जाएगी। डेटा और आपकी गोपनीयता की सुरक्षा के अलावा, यह फोन का पता लगाने का भी काम करता है। स्मार्टफोन में कब आएगी यह तकनीक? इसके बारे में अभी तक कोई खास जानकारी नहीं आई है।

ये पढ़े: UPI-PayNow के बीच समझौता: अब भारत और सिंगापुर के बीच डिजिटल भुगतान आसान बनेगा

हमसे जुड़ने के लिए “यहाँ क्लिक” करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें और “यहाँ क्लिक” करके टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब जरुर करें|

WhatsApp चैनल से जुड़े! Join Now
Telegram चैनल से जुड़े! Join Now
Share This Article
Follow:
हर पल! हर ख़बर! आज बिहार!!
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *